BCA, B.Sc.(IT)और B.Sc.(CS) के एडमिशन और जॉब की पूरी जानकारी:

एसबीएस कॉलेज रांची (www.sbsr.co.in) आपको बीसीए, बीएससी आईटी एवं बीएससी सीएस के सिलेबस के अलावा अलग से उन चीजों को पढ़ाती है जो कि कंपनीज में आपके काम आता है सिलेबस काफी पहले का बना हुआ होता है सिर्फ सिलेबस पढ़ने से स्टूडेंट्स को नौकरी नहीं मिल पाती इसलिए आज के डेट में कंपनी में जो भी रिक्वायरमेंट होती है जो भी टेक्नोलॉजी चल रही होती है उसके और लेटेस्ट टेक्नोलॉजी की पूरी ट्रेनिंग कोर्स के साथ आपको दी जाती हैI

और साथ-साथ आपके लिए पेड इंटर्नशिप कॉलेज के द्वारा ही कराया जाता है जिससे न सिर्फ स्टूडेंट्स आईटी इंडस्ट्रीज में काम करने का गुण कॉलेज में रहते हुए सीख लेते हैं बल्कि वह अपना पॉकेट खर्च भी निकाल लेते हैं और एडवांस आईटी ट्रेनिंग के साथ वे कंपनीज में बहुत अच्छे पैकेज पर प्लेसमेंट ले लेते हैं I हमारे जो स्टूडेंट्स पिछले सालों में कंपनी में प्लेसमेंट लिए हैं उन्हें आप वेबसाइट पर देख सकते हैंI

BCA, B.Sc.(IT)और B.Sc(CS) की पूरी जानकारी:

 आज कल स्टूडेंट्स की रुची कंप्यूटर फील्ड में काफी ज्यादा बढ़ रही है इसलिए कई सरे स्टूडेंट्स बारवी पास करने के बाद कंप्यूटर फिल्ड में जाना चाहते हैI आईटी इंडस्ट्री पूरी दुनिया में सबसे तेजी से आगे बढ़ने वाला सेक्टर है और इसी के चलते यहां नौकरियों के ज्यादा मौके भी मौजूद हैं. अगर आपकी रूचि कप्यूंटर साइंस में है, या फिर आप IT सेक्टर में करियर बनाने के बारे में सोच रहे हैं तो इसमें एडमिशन लेने से पहले आपको कुछ जरुरी बाते पता होनी चाहिए आपको इस कोर्स के बारे में पूरी जानकारी होनी चाहिए आखिर ये कोर्स है क्या इसमें किस तरह की पढाई होती है और इसे करने के बाद आप किस तरह की जॉब (Job) कर सकते है और अच्छी सैलरी (income) पा सकते हैं I तो आइये सबसे पहले जान लेते है ये जरूरी बातें..

1.  इंफॉर्मेशन टेक्नॉलोजी ऐसा डिपार्टमेंट है, जहां कम्प्यूटर की जानकारी रखने वालों की हमेशा जरूरत रहती है. IT कंपनियों में इन लोगों की मांग लगातार बढ़ रही है.

2.  IT में करियर बनाने के लिए कई रास्ते हैं. इनमें अगर आप इंजीनियरिंग नहीं करते हैं, तो आप BCA, B.Sc.(IT) और B.Sc.(CS) भी कर सकते हैं. 12वीं कक्षा में PCM लेते हैं तो आप Computer Applications कोर्स कर सकते हैं. 12वीं में मैथ्स सब्जेक्ट है तो BSc Computer Science कोर्स कर सकते हैं. आप चाहें तो सॉफ्टवेयर प्रोग्रामिंग भी कर सकते हैंI

3.  BCA, B.Sc.(IT) और B.Sc.(CS) एक प्रोफेशनल डिग्री कोर्स है  जो की एक अंडरग्रेजुएट (Undergraduate) डिग्री कोर्स है जो की पूरी 3 साल का होता है इस कोर्स को आपको 12वी पास करने के बाद कर सकते है  इसमें आपको कंप्यूटर एप्लीकेशन (Computer Application) और कंप्यूटर साइंस (Computer Science) से रिलेटेड subjects के बारे में पढाया जाता हैI

4.  ये एक टेक्निकल डिग्री कोर्स है जिसमे स्टूडेंट्स को कंप्यूटर से रिलेटेड फिल्ड के लिए तैयार किया जाता है जिससे आगे जाके कंप्यूटर या फिर आईटी (IT) की फिल्ड में आसानी से काम कर सके ये कोर्स करने के बाद आपको कंप्यूटर के बारे में कई चीजों का ज्ञान हो जायेगा जैसे की सॉफ्टवेर किस तरह बनता है कैसे आप एक सॉफ्टवेर बना सकते है इसके साथ बीसीए डिग्री (BCA Degree) करने के बाद आप एक सॉफ्टवेर इंजिनियर की जॉब भी कर सकते है इसके साथ ही बीसीए करने के बाद आप एमसीए कोर्स (MCA Course) कर सकते है|

BCA, B.Sc.(IT) और B.Sc.(CS) Addmission-

1. Course में addmission के लिए आप किसी university के द्वारा आयोजित किए जाने वाले Entrance exam देकर addmission ले सकते हैं

2. और बहुत से college में direct-addmission की facility से आप addmission पा सकते हैं यह अपने-अपने state के university पर depend करता है।

3. इस कोर्स को कोई भी student science/math के साथ 45% मार्क से पास हो but आज कल कई university/college में किसी भी stream से पास student को (Arts/Com/Sc)addmission देती है ।

BCA, B.Sc.IT और B.Sc.CS course syllabus-

BCA का course totally English में होता है इसलिए आपको पहले से English में पकड़ बनानी होगी। इस कोर्स में शुरुआत में बेसिक कंप्यूटर नॉलेज जैसे कि computer hardware, M.S. office etc. के बारे में पढ़ाया जाता है।  उसके बाद programming languages जैसे की C,C++,VB,C#,JAVA etc. और web programming languages जैसे की HTML ,CSS, javascript,php,. net etc.और Databse में mysql और Oracle आदि सिखाते है ।

जिससे आप web applications,games,softwares आदि बना सकते हैं।

 

BCA, B.Sc.IT और B.Sc.CS course Fees-

BCA कोर्स की fees सभी universities/colleges में अलग-अलग होती है ।

फिर भी  एक साल की फीस लगभग 25000, 30000 35 हजार के करीब होती है और यह private college में इसमें ज्यादा भी हो सकता है। आप अपने किसी नजदीकी यूनिवर्सिटी में जाकर पता कर सकते हैं।

जैसे ही आपका कॉलेज में एडमिशन हो जाता है इसके बाद आपको कॉलेज में 3 साल तक कोर्स  की पढाई करनी होंगी जिसमे आपको कंप्यूटर बेसिक , नेटवर्किंग , वेबसाइट डेवलपमेंट , प्रोग्रामिंग लैंग्वेज इत्यादि के बारे में पढाया जाता है जिसमे कुल 6 सेमेस्टर (Semester) होते है जिसमे आपको लास्ट सेमेस्टर में प्रोजेक्ट सबमिट करना होता है जो की बहोत ही इम्पोर्टेन्ट है प्रोजेक्ट कम्पलीट करने के बाद ही आपका बीसीए पूरा होता है

जैसे ही आपकी बीसीए की डिग्री पूरी होजाती है कोसिस करे की आप बीसीए के बाद कंप्यूटर फील्ड या फिर आईटी कम्पनी में इंटर्नशिप के लिए अप्लाई करे इससे आपको आईडिया हो जायेगा की इंडस्ट्री में काम किस तरह होता है | जैसे ही आप इंटर्नशिप करले उसके बाद आप चाहे तो एमसीए (MCA) के लिए अप्लाई कर सकते है या फिर आप चाहे तो डायरेक्ट प्लेसमेंट ले कर जॉब (Job) कर सकते है I

 

Career opportunity-

1.  यह course complete होने के बाद आप एक web designer,software developer, Junior programmer, App. Developer, Data Analyst, Database administrator, Hardware Engr. etc. बन सकते है और यदि आप एक bright career चाहते है तो आप आगे MCA,MBA या M.Sc.IT कर सकते है

2.  BCA complete होने के बाद आपके पास public/private सेक्टर में बहुत से करियर options होते हैं जैसे कि आप यदि प्राइवेट सेक्टर में जाना चाहते हैं तो किसी मल्टीनेशनल कंपनी में interview  try कर सकते हैं ।

3.  और यदि आप गवर्नमेंट जॉब पाना चाहते हैं तो आप फोर्स यानि की indian army,air forece,navy में कंप्यूटर ट्रेड के पद पर जा सकते हैं यदि आपका college campus interview conduct करती है तो आप interview face करके जॉब पा सकते हैं ।

4.  या फिर आप खुद की टीम बनाकर एक छोटा सा startup कर सकते हैं और यदि आप self independent रहना चाहते है तो आप कोई online-bussiness start कर सकते है।

5.  Mobile Application Development में भी काफी रोजगार हैं. कई गैजेट्स वी‍डियो, मूवी प्लेयर और गेमिंग डिवाइस के रूप में आज मार्केट अपने पैर फैला रहा है. IT फील्ड दिन-प्रतिदिन काफी तेजी से ग्रोथ कर रहा है. जहां स्टूडेंट्स के आगे बढ़ने के लिए अच्छा मौका है.

 जैसा कि आपको पहले से पता है एसबीएस कॉलेज रांची अपने विद्यार्थियों की ट्रेनिंग एवं डेवलपमेंट पर विशेष ध्यान देता है और हमेशा की तरह वह सिलेबस से हटकर उन चीजों की पढ़ाई पर ज्यादा जोर देता है जिनकी जरूरत इंडस्ट्रीज व कंपनीज में ज्यादा होती है जैसे सिलेबस को छोड़कर उन चीजों पर ज्यादा फोकस किया जाता है जिसके लिए कंपनी डिमांड करते हैं इससे एक प्रकार से स्टूडेंट्स एडवांस ट्रेनिंग के तौर पर कंपनी के जरूरत के अनुसार तैयार हो जाते हैं और कॉलेज में रहते हुए ऑन द जॉब ट्रेनिंग कर लेते हैं जिससे उनकी रिक्रूटमेंट या उनका सिलेक्शन ज्यादा होती है व एसबीएस कॉलेज के ज्यादा से ज्यादा स्टूडेंट्स प्लेसमेंट ले लेते हैं यह सारी ट्रेनिंग कोर्स कंप्लीट होने से पहले करा दिया जाता है।